कळसी

-आठ मन अनाज का एक माप । 2. मिट्टी का बड़ा जल पात्र । 3. कुंभ राशि ।  -32/208.

कळसियौ

-छोटा जल-पात्र, लोटा । 2. बैलों की पीठ का कुकुद । 3. तलवार की मूठ पर लगा उपकरण ।  -32/208.

लाग

-1. लगने की क्रिया या भाव । 2. अनुराग, प्रेम । 3. लगन, लौ, धुन । 4. इच्छा, चाह । 5. ईर्ष्या । 6. संबंध, संपर्क । 7. मौका, अवसर । 8. कुछ देने की रस्म । 9. दक्षिणा, भेंट । 10. लगान, कर । 11. औषधि या खाद्य पदार्थ में दिया जाने वाला किसी अन्य वस्तु का पुट, मिश्रण । 12. नशे का व्यसन । 13. किसी कार्य के प्रति लगाव या उत्तरदायित्व । 14. एक प्रकार का नृत्य । 15. प्रतिस्पर्धा, हौड़ । 16. जागीरदारों द्वारा अपनी प्रजा से ली जाने वाली बेगार । -वि. योग्य, काबिल ।     -33/527. 

अर्जी

 -प्रार्थना, निवेदन । 2. फरियाद । 3. प्रार्थना पत्र । -32/66.
-मेवाड़ में महाराणा को संबोधित हर पत्र किसी भी मजमून का हो (शोक पत्र के अलावा) ‘अर्जी’ नाम से ही संबोधित होता था । -1/61.

लाखोटौ

-तालाब के मुख्य घाट के सामने बना मिट्टी का ऊंचा ढेर । 2. लाख की मुद्रा/सील ।  -33/527.

Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com