आदजुगाद

-सृष्टि के आरंभ से अंत तक । परंपरा का । अति प्राचीन काल का, अनादि काल का ।  -18/286

आदजथा

-डिंगल गीतों/छंदों की रचना का एक नियम विशेश जिसमें नायक का नाम गीत के प्रथम द्वाले में हो और तत्पश्चात्       क्रमशः वर्णन हो ।                                                                                -18/286.

अहिगण

-पांच मात्राओं के गण, ठगण के सातवें भेद का नाम जिसमें पांच मात्राएं होती हैं, प्रथम गुरु और शेष तीन लघु ऽ।।।.....सर्पगण । ....विष्णु ।....डिंगल के वेलिये सांणोर गीत का एक नाम ।  -18/237.

अहिगणबंध

-डिंगल गीतों/छंदों की रचना का नियम या रीति विशेष जिसमें सर्प की चाल के अनुसार वर्णन हो ।  -18/237.

अहर-अळग

-छप्पय छंद का एक भेद विशेष जिसके पढ़ने में होठ परस्पर नहीं मिलते, अर्थात वे वर्ण जिनके उच्चारण में परस्पर होठ मिलते हैं इसमें प्रयुक्त नहीं होते । -18/235.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com