आणंदभैरवी

-सब कोमल स्वरों वाली भैरव राग की रागिनी ।  -18/292.   

आडौ पुचताळ

-संगीत के अन्तर्गत पांच आघात और नौ मात्राओं का एक ताल ।     -18/280.

आडौ चैताळ

-मदृंग का एक ताल विशेष -18/280.

आडौ ठेकौ

-संगीत के अन्तर्गत नौ मात्राओं का एक ताल ।   -18/280. 

आडो खेमटौ

-संगीत के अन्तर्गत मृदंग का साढ़े तेरह मात्राओं का एक ताल विशेष ।  -18/280.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com