बोली

-1. बोलने की क्रिया या भाव । 2. किसी प्राणी के बोलने की आवाज । 3. किसी देश या प्रदेश के लोगों के बोल-चाल की भाषा । 4. विशिष्ट अभिप्राय से कही जाने वाली बात, वाक्य, शब्द । 5. वादा, वचन । 6. वाणी, जबान, बात करने का ढंग । 7. मयाद, मोहलत, छूट । 8. वस्तु आदि की नीलामी पर कीमत की घोषणा । 9. बोल-चाल का स्वर या ध्वानि । 10. व्यंग, ताना। 11. हंसी-ठिठौली ।   -33/253.

बोल-चाल भाषा

 -1. बोलने की क्रिया या भाव । 2. बोलने, बात करने का ढंग । 3. किसी विषय पर होने वाला वार्त्तालाप । 4. मेल-जोल, प्रेम संबंध । 5. छेड़-छाड़ । 6. तर्क-वितर्क । 7. झगड़ा, वाग्युद्ध । 8. सामान्य बात, चलती भाषा । -33/252.
-हमारे यहां लोक-व्यवहार में उसी व्यक्ति को भला कहेंगे जिसका आचरण मनसा, वाचा कर्मणा श्रेष्ठ हो-
            ‘मन मैला, तन ऊजळा, बुगला कपटी होय,
            तासूं तो कागा भला, तन-मन एकी होय ।’
वचन पालन मारवाड़ी समाज के व्यक्तित्व का प्रधान गुण है । सगाई-विवाह, व्यापार, रुपये, सोना, चांदी, पशुधन, जमीन-जायदाद आदि सभी लेन-देन केवल जबान पर या मौखिक स्वीकृति पर होते हैं-
            ‘मरद तो जब्बान बंको, कूख बंकी गोरियां ।
            सुरहन तो दूधार बंकी, तेज बंकी घोड़ियां ।
यहां मध्यकालीन सामन्ती युग में राजा-महाराजाओं, राव-उमरावों, जागीरदारों, दीवान व मुस्तदियों, सेठ-साहूकारों, दरबार कवियों, पण्डितों, चारण, भाटों और मांगणयारों ने दैनिक जीवन के शिष्टाचार, औपचारिकता, अदब और तमीज के निर्वाह के लिये जिस मीठी शिष्ट बोली का सृजन किया, वह बेजोड़ है । वह मर्यादित है । इसके सुनने से अजनबी को यह आभास नहीं होता कि वक्ता निवेदन करना चाहता है अथवा वाक्युद्ध । बोलचाल की भाषा में दादोसा, बाबोसा, दादीसा, भाभूसा, काकोसा, काकीसा, कंवरसा, नानूसा, मामूसा, नानीसा, मामीसा, लाडेसर, लाडली, बापजी, अन्नदाता, आप पधारोसा, विराजोसा, जल अरोगावोसा, आराम फरमावोसा, राज पधारियां सोभा होसी सा आदि ऐसी असंख्य कर्णप्रिय शब्दावलियां हैं जो हर आदमी हर दिन विपुलता के साथ प्रयोग करता है । अलग-अलग पारिवारिक संबंधों को संबोधित करने के लिये इतने अलग-अलग शब्द विश्व के किसी शब्दकोषों में अनुपलब्ध है । यहां बोलचाल की लोक-भाषा में स्त्रियों की एक अवस्था विशेष के लिये ‘‘पग भारी है‘, ‘पेट सूं है’, ‘आस ठहरगी’ आदि बहुत ही मर्यादित शब्दावलियों का प्रयोग होता है । इससे भी बड़ी बात यह है कि अलग-अलग पशुओं में इसी अवस्था विशेष के लिये अलग-अलग शब्द प्रयुक्त किये जाते हैं, उदाहरणार्थ, ‘घोड़ी सूभर है, ‘गाय धीणै हूगी’, भैंस हरी हुयोड़ी है’ आदि । -35/80-1.

 

सूर पद

 -श्री मनोहरजी शर्मा का मानना है कि प्रामाणिक न होने पर भी ऐसे सरल भक्तिपदों का यहां लंबे समय से संकलन होता रहा है और छोटी-बड़ी विविध हस्तप्रतियां में वे भक्तों द्वारा संगृहीत किये गये हैं । यहां मनोहरजी शर्मा द्वारा संकलित ऐसे भक्ति पद दिये जा रहे हैं जो सूरदास के नाम के साथ गाये जाते हैं-
                          1. सो देखो माई, मोरा बैर परे ।।टेक।।
                              कूक-कूक सखि मोहि डरपावै,
                                      निस दिन रहत खरे ।1।
                              मधुर-मधुर दादुर अति बोलै,
                                       तन मन जात जरे ।2।
                              सूरदास उनकी गति को है,
                                        मीत जो रहत परे ।3।
                         
                          2. पपईया पापी, पीया कूं मिलाई दे मोरा ।।टेक।।

                              घुमड़-घुमड़ घन बरसण लागो,
                                        दादुर करत झिंगोरा । 1।
                              झिरमिर -झिरमिर मेहा बरसै,
                                        बिजुरी कर रही सोरा । 2 ।
                              सारंग मधुर-मधुर सुर बोलै,
                                         हरी भई सब ठोरा । 3।
                             आवन कह गये, सांवन बीतो,
                                       कितहू रहै चितचोरा । 4।
                             भादव मास घटा अति गरजै,
                                      सूर पद कर रही सोरा । 5 ।
                             आसोजां निरमळ जळ भरिया,
                                      सरवर लेत हिलोरा । 6 ।
                             सूरदास प्रभु तुम मिलियां बिन,
                                      विरहणि कूं दिन दोरा ।7 ।
                         
                          3. पपईया पापी, तैं म्हारी नींद गुमाई ।।टेक।।

                              गरजत बदरा, दमकत दामन,
                                       घटा घमंड झड़ लाई । 1।
                              दादर मोर, झिंगोर करत है,
                                       सुणि विरहणि मुरझाई ।2 ।
                             बोहो दिन बीता, अजहू न आये,
                                       तलफ-तलफ बिलखाई ।3।
                              सूरदास विरहणि की विपदा,
                                        स्याम मिल्यां सूं जाई । 4 ।
                       
                          4. माई री मोरा बोलत मद के माते । टेर।

                             गरज्यौ घन बरज्यो नहीं मानत,
                                             सबद सुनावत ताते । 1।
                             दादर मोर पपैया बोलै,
                                            कोइल सबद सुहाते ।2।
                             सूरदास प्रभु तुमरे मिलन कूं,
                                             नहीं कोई आवत जाते ।3 ।
                       
                         5. देखो माई बादळ घमंड कियो रे ।।टेक।।

                             जाको पीव परदेस बसत है,
                                              जाको कठन हियो रे ।1।
                             दादर मोर पपैया बोलै,
                                             Cसबद कियो रे ।2।
                            काळी घटा मेघ अति बरसै,
                                                 देखत डरै हियो रे । 3।
                           सूरदास प्रभु दरसण दीज्यो,
                                               तुम बिन ध्रिग्ग जियो रे ।4।
                     
                       6. आजि तो गोविंद म्हारै घरि रे,

                           मेहा बरसबौ ही करि रे ।।टेक।
                           घुमड़-घुमड़ घन ऊलरि आयो,
                                           बिजुरि चमक लायो झरि रे ।1 ।
                           छोटी-छोटी बूंदन बरसन लागो,
                                           सूके-सूके सरवरि भरि रे ।2।
                           दादर मोर पपईया बोलै,
                                          कोइल करि रही सुरि रे ।3।
                           बोहोत दिनां सूं प्रीतम पाया,
                                          मोहि बिछुरन को डरि रे ।4।
                           सूरदास प्रभु तुमरे मिलन कूं,
                                           हरि चरणन चित धरि रे । 5।
                   राजस्थान में इस प्रकार की पुरानी हस्तप्रतियां बड़ी संख्या में मिलती हैं जिनमें भक्तजनों ने अपने समय में प्रचलित भक्तिपदों का बड़े चाव से संकलन किया है ।                      आगे कुष्ण भक्ति विषयक एक लौकिक पद और भी उदाहरण स्वरूप दिया जा रहा है, जो राजस्थानी महिला समाज में बड़े चाव के साथ गाया जाता है । ऊपर                       दिये गये पदों की भाषा पिंगल अर्थात्् ब्रजभाषा मिश्रित राजस्थानी है तो इस पद की भाषा शुद्ध राजस्थानी है -
                             मेरै लालजी सूं कुण झगड़ी, रै बिरज में ।टेक।
                             मेरो रै कान्हो भोळो-ढाळौ, तूं मस्तानी गूजरी ।
                             मेरो रै कान्हो दूध पिवत है, छाछ धसूड़े गूजरी ।
                             काहू कै दोय-दोय, काहू कै च्यार-च्यार, एकलिये की ओड़ टळी ।
                             सूरदास प्रभु तुमरे मिलण कूं, चरणां में आय पड़ी । -विश्वम्भरा, पृ. 16-18, अंक 1, वर्ष 24, जन.-मार्च 1992.

 

 

 

हीराबेधी

-छप्पय छन्द का एक भेद विशेष । -33/917.

 

चारण कविता

 -चारणों में कम कोई ऐसा होगा कि जिसको बुरी भली कविता करना न आता हो । इनकी कविता जियादा ‘डिंगल’ और कम ‘पिंगल’ होती है । डिंगल देशी भाषा और पिंगल ब्रजभाषा की कविता का नाम है । चारण कहते हैं कि जैसा वीररस का वर्णन ‘डिंगल’ में हो सकता है वैसा पिंगल में नहीं होता । जब राजपूत अफीम और शराब के नशे में मग्न होते हैं उस वक्त ये अपनी वाणी के चमत्कार से उनको और भी प्रसन्न और प्रफुल्लित करके उनके दिलों में अपनी जगह बढ़ाया करते हैं । इनके बिना उनकी मजलिस फीकी होती है । राजपूत सरदार भी इनकी बहुत ताजीम और कदर करते हैं और देते लेते भी खूब हैं । इन्होंने एक एक दोहे और गीत की रीझ में बड़े बड़े खेत, बेरे, गांव और सैकड़ों हजारों रुपये के ‘सिरोपाव’ पाये हैं । जोधपुर के महाराजा अभयसिंघजी कविया करणीदान को लाख पसाव देकर जोधपुर से मंडोर तक जहां उसका डेरा था पहुंचाने के वास्ते पधारे थे जिसके बाबत अब तक यह दोहा मशहूर है-
            ‘‘अस चढ़ियो राजा अभो, कवि चाढ़े गजराज,
             पोहर अेक जलेब में, मोहर बुहे महराज ।’’
ऐसा ही भागदारी एक दूसरा करणीदान भी मुंधियाड़ में हुआ । जिसको लेने को उदयपुर के महाराणा जगतसिंघजी अपनी ड्योढ़ी से सौ सवा सौ पावंडे बाहर तक आये थे । जिसके वास्ते उसने यह दोहा कहा-
           ‘‘करना रो जगपत कियो, कीरत काज कुरब,
             मनजिन धोको ले मुओ, साह दिल्लीस सरब ।........’यानी करनीदान का महाराणा जगतसिंघ ने यह अदब किया
कि जिसका अरमान ही दिल्ली का बादशाह अपने दिल में लेकर मर गया ।’.... चारणों ने भी राजपूतों की कीर्ति बढ़ाने में कसर नहीं रखी और उनके इनामों के भी लाखपसाव, किरोड़पसाव और अरबपसाव नाम रख रख कर दरजे बढ़ा दिये । कवित्त और गीत का इनाम न मिलने पर ‘‘हिजो’’ कह देना भी चारणों का काम है । जैसे एक यह दोहा किसी चाारण का है-
         ‘‘नेना हाथां नाहरां, मोटी मोज न होय ।
          गुरजी गंडक दौड़कर मिरग न मरे कोय ।’’
चारण तारीफ को ‘‘सर’’ और हिजो को ‘‘विसर’’ कहते हैं । इनके कहे हुए सैंकड़ों ही ‘सर’ और ‘विसर’ हैं जिनको याद करके पिछले चारण कवि बन जाते हैं । ‘‘विसर’’ कहने पर जान जोखौं भी उठानी पड़ती है । चारण राजपूतों के साथ बादशाहों के दरबार में भी पहुंच गये थे । अकबर, जहांगीर और शाहजहां की महरबानी से ‘‘जाड़ा मेहड़ू, सूराचन्द टापरिया, लक्खाजी बारहट, पीरजी आसिया, दुरसाजी आढ़ा, रामाजी सांदू और हापाजी वगैरह ने बड़े बड़े इनाम और मनसब पाये थे । कहते हैं कि जाड़ाजी मेडू ने बादशाही दरबार में सब कवि लोगों को बैठक दिलाई थी । वह बहुत मोटा था । उसको दरबार में खड़ा रहने से तकलीफ रहती थी । इसलिये एक दिन वह यह दोहा पढ़कर बैठ गया-
        ‘‘पगां न बळ पतसाह, जीभां बळ जाचक तणो,
          म्हे तो अकबर शाह, बैठा ही बैठा बोलस्यां ।’’.......एक नबाब उसके पास खड़ा था, उसने फौरन हाथ पकड़ कर उठाया और खड़ा कर दिया । मगर बादशाह ने उसको उस दोहे का मतलब समझ कर हुक्म दिया कि ‘चारण’ आयंदा दरबार में बैठा करें । चारणों में कवि अच्छे अच्छे हुए हैं, उनमें दुरसाजी आढ़ा, करनीदान कविया, नरहरदास बारहट, स्वामी गणेशपुरीजी, कविराज मुरारदानजी, वणसूर किरपारामजी, लालस उमरदानजी, बारहट जेतजी ख्याती कवि हैं । बूंदी में सूरजमलजी बड़े जबरदस्त कवि थे जिन्होंने ‘वंशभास्कर’’ नाम एक बड़ा ग्रंथ बनाया है । तवारीख में वणसूर जादूदानजी जोघपुर में और कविराजा स्यामलदासजी उदयपुर में बहुत नामी हुए । स्यामलदासजी को अंगरेजी सरकार से ‘महामहोउपाध्याय’ की पदवी भी मिली थी । उन्होंने उदयपुर की तवारीख बहुत तहकीकात से बनाई है । स्वामी गणेशपुरीजी ने ‘‘कर्णपर्व’ का उल्था छन्दों में, और कविराजा मुरारीदानजी ने ‘‘जसवन्तजसोभूषण’’ ग्रंथ अलंकारों में काबिलतारीफ के बनाया है । -6/336-39.

 


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com