पडगौरव

-विवाहोपरांत श्रीमाली ब्राह्मणों में वधू पक्ष की ओर से दिया जाने वाला भोज । -33/20.                                                             

पट्टाबींटी

-पाणिग्रहण से पूर्व वर की ओर से वधू को पहनाई जाने वाली चोदी की मुद्रिका ।   -33/19.

पटरंगणा

-विवाहोपरान्त वर-वधू से खेलाया जाने वाला एक खेल ।  -33/17.

पटियार

-विवाह योग्य कन्या को पाट पर (बाने) बैठाने की प्रथा ।  -33/18.

पड़दायत

 -1. पर्दा रखने वाली स्त्री, परदे में रहने वाली स्त्री । 2. राजा या सामन्तों की उप-पत्नी, रखैल। 3. पर्दा रखने की प्रथा ।-33/13.
-जोधपुर के राजाओं और उनके छुटभैयों में यह चाल ठेठ से चली आती है कि चाहे जिस जाति की स्त्री को पांव में सोने का गहना पहना कर उसे जब वे पर्दे में रख लेते हैं, तब वह उपपत्नी ‘पड़दायत’ कहलाती है और उसके साथ आदरसूचक ‘रायजी’ शब्द जोड़ दिया जाता है । -2/245.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com