झील

-स्वर । ‘लिखना पढ़ना सीख कर भवाई के दल से आठ-दस वर्ष का लड़का जुड़ जाता है । ऐसे लड़कों का गला उन्नीस-बीस वर्ष की अवस्था प्राप्त करने तक अच्छा रहता है । इसे ‘झील’ कहते हैं । किन्तु लग्न हो जाने के बाद झील बिगड़ने लगती है । सुर फटने लगता है । भवाई का कलाकार जब तक ब्रह्मचर्य का पालन करता है तभी इसी झील को सुस्थिर बनाये रख सकता है । -16/12.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com