आर्श विवाह

-यदि पिता एक जोड़ा पशु/एक गाय और एंक बैल, या दो जोड़ा पशु लेकर पिता कन्या को देता है तो वह ‘आर्श विवाह’ कहलाता है । जोड़ा पशु लेने से यह अर्थ नहीं है कि पिता कन्या का सौदा करता था । यह विवाह पुरोहितों और ब्राह्मणों के कुलों में ही प्रचलित था । यज्ञों की समाप्ति के साथ विवाह का यह प्रकार समाप्त हो गया ।   -23/112-3.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com