आसुर विवाह

-इस विवाह में पति कन्या के पिता या उसके संबंधियों को अपनी शक्ति के अनुसार धन देकर विवाह करता है । यह एक प्रकार का सौदा था । इसको अच्छा नहीं समझा जाता था क्योंकि यह कन्या के विक्रय के समान था । निंदनीय होते हुए भी इस प्रकार का विवाह अभी तक भी प्रचलित है । अब तो वर वधु के पिता से भी धन लेने लगे हैं । इसका मुख्य कारण बाल विवाहों का ज्यादा प्रचलन होना है । सीमित समय में ही पिता द्वारा पुत्री का विवाह कर देने की चिंता ने ही पति को धनदेना/दहेज आवश्यक कर दिया । -23/113.
-देखें ‘विवाह’ ।


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com