आरय्या

-एक प्रकार का अर्द्ध-मात्रिक छंद विशेष जिसके प्रथम और तृतीय चरण में बारह-बारह तथा द्वितीय और चतुर्थ चरण में पंद्रह-प्रंदह मात्राएं होती हैं । चार मात्राओं का गण इस छंद में समूह कहलाता है । इसके पहले, तीसरे, पांचवें और सातवें गण में जगण का निषेध है किन्तु छठे गण में जगण होना चाहिए ।       -18/305.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com