प्रबन्ध काव्य

 -1. साहित्य में श्रव्य काव्य का एक भेद विशेष । 2. पद्यबंध रचना, काव्य । 3. काव्य का एक भेद । 4. विभिन्न कथानकों का संकलित ग्रंथ । ऐसा निबंध या लेख जिसका सिलसिला या क्रम जारी रहे ।6. अध्याय, सर्ग । -33/116.
-जैन संत कवियों के प्रबंध साहित्य में महावकाव्य और खण्ड-काव्य दोनों ही हैं । विषय-भेद की दृष्टि से ये प्रबंध काव्य पांच प्रकार के हैं-
             1. धार्मिक और पौराणिक प्रबंध काव्य -सीताराम चौपई-समय सुन्दर ।
             2. ऐतिहासिक प्रबंध काव्य - संधपति सोमजी निर्वाण वेलि -समय सुन्दर ।
             3. उपदेशात्मक प्रबंध काव्य - बारह व्रत रास -उपा, गुणविनय ।
             4. कथात्मक प्रबंध काव्य - पार्श्वनाथगुणवेलि-जिनराज सूरि ।
             5. प्रेम व्यंजना मूलक प्रबंध काव्य -मृगावती रास -समय सुन्दर । -35/126-7.


Copyright © Rajfolkpedia.com 2016 All rights reserved.                                                                                                                                                                          Website Developed By: Representindia.com